तेरी मर्ज़ी

तेरी मर्ज़ी ही है, जो आज आप और हम संग हैं,
मृगतृष्णा (mirage) जो दिखी, उसे तेरी मर्ज़ी समझ वो पल भी सुकून से जीया है.

0 Comments

Leave A Comment

Your email address will not be published.

[mainedekhahai]